LGBT Full Form in Hindi – LGBT और LGBTQ का क्या मतलब होता है?

LGBT full form - LGBTQ full form

LGBT full form in Hindi, LGBTQ full form in Hindi,LGBT और LGBTQ meaning in Hindi, LGBT का पूरा नाम क्या है, LGBTQ का क्या मतलब होता है. अगर आप भी इन्हीं सब सवालों का जबाब ढूंढ रहे हो तो इस postको पूरा जरुर पढ़ें.

LGBT क्या है ये जानने से पहले आपको ये जानना होगा की समलैंगिकता (Homosexuality) क्या है तो दोस्तों इसका अर्थ होता है किसी भी व्यक्ति का समान लिंग के व्यक्ति के प्रति यौन आकर्षण. साधारण भाषा में किसी पुरुष का पुरुष के प्रति या महिला का महिला के प्रति आकर्षण. ऐसे लोगों को अंग्रेजी में ‘गे’ या ‘लेस्बियन’ कहा जाता है.

मॉर्डन साइंस कहती है कि समलैंगिकता की प्रवृत्तिपैदाइशी होती है. इसमें न तो ऐसे लोगों का कोई कसूर होता है और न ही उनके माता-पिता की परवरिश का. पैदाइशी होने के कारण इसमें बदलाव लाना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन होता है.

बदलाव सिर्फ तभी मुमकिन है जब ऐसा आदमी खुद अपनी मर्जी से अपने को बदलना चाहे, बिना किसी दबाव के। उस हालत में कोशिश की जा सकती है. वैज्ञानिकों का कहना है कि समलैंगिकता केवल मनुष्यों में ही नहीं बल्कि कई पशुओं में भी पाई जाती है.

LGBTQ (समलैंगिकता) पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला

समलैंगिकता का अस्तित्व प्राचीनकाल से ही सभी देशों में पाया गया है लेकिन यह कभी उस रूप में नजर नहीं आया जैसा कि आधुनिक युग में देखने में आता है. आधुनिक युग में कुछ देशों ने समलैंगिकता को कानूनी मान्यता दे दी है तो कुछ देश इसके सख्त खिलाफ हैं.

साल 1861 ब्रिटिश राज में धारा 377 भारतीय दंड संहिता का हिस्सा बनाया गया था जिसमें समलैंगिक सेक्स को अपराध माना गया है. इस धारा के तहत प्राकृतिक यौन संबंधों यानी महिला और पुरूष के बीच सेक्स के अलावा अन्य यौन गतिविधियों को अपराध (10 साल से लेकर आजीवन कारावास) की श्रेणी में रखा गया था.

6 सितम्बर 2018 सुप्रीम कोर्ट ने आईपीसी की धारा 377 के तहत 158 साल पुराने औपनिवेशिक कानून के एक हिस्से को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया और अपने फैसले में कहा है कि अगर ‘दो बालिग सहमति से कमरे के अंदर शारीरिक संबंध बनाते हैं तो यह अपराध नहीं है.

इसके बाद से देशभर के LGBT (समलैंगिकों) में उत्साह है और वो खुशी मना रहे हैं. इस फैसले से खुश LGBT कौन हैं, क्या आप इस कम्यूनिटी के बारे में जानते हैं? आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि आखिर LGBT होता क्या है और इसमें कौन से लोग इसमें शामिल हैं?

LGBTQ और LGBT Full Form क्या है और LGBTQ का क्या मतलब होता है?

समलैंगिकों को आम बोलचाल की भाषा में एलजीबीटी (LGBT) यानी लेस्ब‍ियन (LESBIAN), गे (GAY), बाईसेक्सुअल (BISEXUAL) और ट्रांसजेंडर (TRANSGENDER) कहते हैं. वहीं कई और दूसरे वर्गों को जोड़कर इसे क्व‍ियर (Queer) समुदाय का नाम दिया गया है. इसलिए इसे LGBTQ भी कहा जाता है.

आइये अब हम LGBTQ full form के सभी words का मतलब समझते हैं.

L (लेस्बियन) – ये शब्द उन महिलाओं के लिए उपयोग किया जाता है जो दूसरी महिलाओं की ओर आकर्षित होती हैं. उनसे प्यार करती हैं और यौन संबंध बनाना चाहती है. वहीं आपको बता दें इसमें ऐसा भी हो सकता है कि एक महिला का बर्ताव और लुक एक पुरुष की तरह ही हो और संबंध महिला से ही हो.

G (गे) –  ये शब्द उनके समलैंगिक पुरुषो के लिए इस्तेमाल किया जाता है. ऐसे पुरुषो का सेक्सुअल और इमोशनल अट्रैक्शन किसी दुसरे पुरुष के प्रति होता है. सीधे शब्दों में कहे तो “गे” वे आदमी होते है जिनको प्यार किसी लड़की से नहीं बल्कि किसी लड़के से होता है.  ऐसे में पार्टनर के रूप में वे सिर्फ उसी व्यक्ति को चाहते है.

B (बाईसेक्सुअल) –  ये वे लोग होते है जिनका रोमांटिक और यौन आकर्षण पुरुषों और महिलाओं दोनों के प्रति होता है. ऐसे लोगो में लडको और लडकियों दोनों के लिए feelings हो सकती है और दोनों में से किसी के साथ भी योंन संबंध बनाने में संतुष्टि मिल सकती है. बाईसेक्सुअल एक आदमी भी हो सकता है और एक औरत भी.

T (ट्रांसजेंडर) – ये थर्ड जेंडर में आते हैं. ये वो लोग होते हैं जिनके जननांग( प्राइवेट पार्ट) पैदा होते वक्त पुरुष की तरह होते हैं और जिसे लड़का माना जाता है. लेकिन समय के साथ जब ये लोग बड़े होते हैं और अपने अस्तित्व को पहचनाते हैं तो खुद को लड़की मानते हैं. तो उन्हें ‘ट्रांसवुमेन’ कहा जाएगा और इसके उलट हो जाए तो उन्हें ‘ट्रांसमेन’ कहा जाएगा.

Q (क्वीयर) –  सारी LGBTI समुदाय का क्वीयर समुदाय कहते हैं. हम ये भी कह सकते हैं जो जो इंसान ना अपनी पहचान तय कर पाए हैं ना ही शारीरिक चाहत, यानी जो ना खुद को आदमी, ना औरत या ना ट्रांसजेंडर मानते हैं और ना ही लेस्बियन, गे या बाईसेक्सुअल, उन्हें क्वीयर कहते हैं.

LGBTQ की पहचान सतरंगे झंडे की कहानी

ये रेनबो फ़्लैग एलजीबीटी समुदाय की पहचान है. दुनियाभर के समलैंगिक लोग अपनी एकजुटता दिखाने के लिए इन रंगों को लहराते दिख जाते हैं.

इस रेनबो फ़्लैग को 1978 में एलजीबीटी समुदाय के प्रतीक के रूप में मान्यता दी गई. सैन-फ्रांसिस्को के कलाकार गिलबर्ट बेकर ने आठ रंगों वाला डिज़ाइन पेश किया था. ये झंडा 25 जून को गे फ़्रीडम डे के दिन पहली बार फ़हराया गया था.

जहां तक रंगों की बात है इसमें मुख्यतः छह रंगों की पट्टियां देखने को मिलती है- लाल, नारंगी, पीली, हरी, नीली और बैंगनी, इसमें लाल रंग की पट्टी झंडे के सबसे ऊपर लगाई गई है। 

लाल – ज़िंदगी

नारंगी – इलाज

पीला – सूरज की रोशनी

हरा – प्रकृति

नीला – सौहार्द

बैंगनी – इंसानी रूह

Hello Friends, में आशा करता हूँ की आपको ये LGBTQ और LGBT Full Form in Hindi – LGBT और LGBTQ का क्या मतलब होता है post पसंद आई होगी अगर आपको इस post से related कोई सवाल या सुझाव है तो नीचें comment करें और इस post को अपने दोस्तों के साथ जरुर share करें.