MSME Full Form In Hindi – MSME क्या है?

MSME Full Form

MSME Full Form in Hindi क्या होती है, MSME क्या होता है, MSME के कितने Type होते है, एमएसएमई क्या है? एमएसएमई के under में कौन कौन से business आते है. MSME के क्या क्या फायदे होते है और एमएसएमई का पूरा नाम क्या है.

MSME का हिंदी में क्या मतलब होता है, MSME पंजीकरण क्या है? MSME पंजीकरण किसको करवाना चाहिए अगर आप MSME Full Form से जुड़े हुए इन्ही सवालों का जबाब खोज रहे है तो ये Post आपके लिए ही है.

आज आपको में इस Post में MSME के बारे में जानकारी देने जा रहा हूँ. मैं आशा करता हूँ कि आप MSME के बारे में जो कुछ भी जानना चाहते है वो आपको इस Post में अवश्य मिल जाये. अगर आप MSME के बारे में अच्छे से समझना चाहते है तो इस Post को पूरा Read जरुर करे.

दोस्तों, आप ने MSME के बारे में बहुत कुछ सुना होगा शायद आप ने भी MSME से कोर्स किया होगा। एमएसएमई एक बहुत ही कॉमन शब्द है जिसे हम सबने बहुत सुना है मगर कुछ लोग ही होते है जिन्हे MSME Full Form के बारे में पता है.

इस पोस्ट के माध्यम से आप को यह मालूम होगा की MSME क्या है? और MSME Full Form क्या होती है।तो चलिए आइये जानते है की MSME Full Form in Hindi क्या होती है और MSME क्या है.

MSME Full Form In Hindi क्या होती है और MSME क्या है.

दोस्तों, MSME Full Form “Ministry of Micro, Small and Medium Enterprises (मिनिस्ट्री ऑफ़ माइक्रो, स्माल एंड मध्यम इंटरप्राइजेज)” होती है. एमएसएमई का पूरा नाम की अगर हिंदी मीनिंग की बात करें तो इसका मतलब “मंत्रालय के सूक्ष्म, लघु और मझौले उद्यम” होता है.

यह सरकार की एक शाखा है। भारत का वह नियम जो भारत में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों से संबंधित नियमों, विनियमों और कानूनों के निर्माण और प्रशासन से संबंधित है। यह बिलकुल सर्कार के मंत्रलय की तरह काम करती है. और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के लिए नियम व कानून बनाती है.

भारत में, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास (MSMED) अधिनियम 2006 की धारा 7 के तहत, भारत सरकार निवेश के आधार पर सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के आकार को निर्दिष्ट करती है। विनिर्माण उद्यमों के मामले में, संयंत्र और मशीनरी में निवेश सूक्ष्म उद्यमों के लिए 25 लाख रुपये से अधिक नहीं है.

  • MSME का नजरिया (Vision):- भारतीय अर्थव्यवस्था के प्रमुख योगदानकर्ताओं के रूप में विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों का सतत विकास।
  • MSME का विशेष कार्य (Mission):- सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के विकास को बढ़ावा देने के लिए, खादी, गाँव और कॉयर उद्योगों सहित नए उद्यम बनाने और अधिक रोजगार उत्पन्न करने के लिए.
  • एमएसएमई दीर्घकालीन लक्ष्य (Long Term Goal): Skill और Enterprises विकास के माध्यम से एमएसएमई के प्रदर्शन में सुधार करके देश में manufacturing को बढ़ावा देना।

MSME Full Form क्या है MSME के अंतर्गत किस प्रकार का व्यवसाय आता है?

यहाँ में आपको यह बताऊंगा की मसमे की अंतर्गर कौन कौन से उद्योग और किस श्रेणी में आते है

निर्माण क्षेत्र में कंपनियां:-

उद्योग (विकास और विनियमन) अधिनियम, 1951 की पहली अनुसूची में सूचीबद्ध एक उद्योग के लिए माल के निर्माण या उत्पादन में शामिल उद्यम MSME नियम के दायरे में शामिल हैं।

इसके अलावा, एक तैयार उत्पाद के मूल्य को जोड़ने के लिए संयंत्र और मशीनरी को नियोजित करने वाले उद्यम जो एक अलग नाम, उपयोग या चरित्र के परिणामस्वरूप होते हैं, सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यमों के दायरे में आते हैं।

उनके वार्षिक कारोबार के आधार पर, उद्यमों को निम्न उप-श्रेणियों के तहत वर्गीकृत किया जाता है।

  • सूक्ष्म उद्यम (Micro enterprises) – ऐसी कंपनियाँ जिनका वार्षिक कारोबार रु। 25 लाख से अधिक नहीं है।
  • लघु उद्यम (Small enterprises) – ऐसी कंपनियाँ जिनका वार्षिक कारोबार रु। 25 लाख से रु। 5 करोड़ के बीच है।
  • मध्यम उद्यम (Medium enterprises)  – ऐसी कंपनियाँ जिनका वार्षिक कारोबार रु। 5 करोड़ से 10 करोड़ के बीच है।

सेवा क्षेत्र में कंपनियां (Services Sector):-

MSME का पूर्ण रूप भी सेवा क्षेत्र के उद्यमों तक फैला हुआ है। सेवा क्षेत्र में कंपनियों का उप-वर्गीकरण उनके वार्षिक Turnover के आधार पर निम्नानुसार है।

  • सूक्ष्म उद्यम (Micro enterprises) – ऐसी कंपनियाँ जिनका वार्षिक Turnover 10 लाख रुपये के भीतर है।
  • लघु उद्यम (Small enterprises) – ऐसी कंपनियाँ जिनका वार्षिक Turnover रु। 10 लाख से रु। 2 करोड़ तक है।
  • मध्यम उद्यम (Medium enterprises) – ऐसी कंपनियाँ जिनका वार्षिक Turnover रु .2 करोड़ से रु। 5 करोड़ तक है।

MSME के क्या फायदे है और एमएसएमई का पूरा नाम क्या है?

  • MSME रजिस्ट्रेशन के बाद आपको आसानी से लोन मिल सकेगा वो भी कम ब्याज पर.
  • एमएसएमई पंजीकरण के बाद, आपकी लागतCOST कम हो जाएगी क्योंकि विभिन्न योजनाएं हैं जो निर्माता को सब्सिडी प्रदान करती हैं।
  • आप विदेशी एक्सपो में भाग ले सकते हैं और आपको इसके लिए सरकार से सब्सिडी मिलेगी।
  • MSME रजिस्ट्रेशन के बाद आप कई सारी सरकारी स्कीम्स का फायदा उठा सकेंगे और सरकार आपको कई सारी स्कीम्स के तहत आपको सब्सिडी भी देगी।  बिना MSME रजिस्ट्रेशन आप उन सरकारी स्कीम्स का लाभ नहीं उठा सकेंगे जिनमे MSME रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है।

MSME Full Form और MSME के पंजीकरण के लिए जरूरी दस्तावेज

  • पैन कार्ड की Photo State
  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • पासपोर्ट Size की तस्वीर
  • अगर आप किराये की संपत्ति पर उद्योग करते है तो किराया समझौता का दस्तावेज
  • स्वामित्व वाली सम्पत्ति के लिए सौदे का दस्तावेज़ या सम्पत्ति का दस्तावेज़
  • एफिडेविट अर्थात शपथपत्र
  • घोषणा दस्तावेज
  • एनओसी
  • साक्षी के रूप में दो व्यक्ति

Read More:-

IVF Full Form In Hindi – IVF क्या है?

Hello Friends, मैं आशा करता हूँ की आपको MSME Full Form in Hindi – एमएसएमई क्या होती है post पसंद आई होगी. अगर आपको इस post से related कोई सवाल या सुझाव है तो नीचे comment करें और इस post को अपने दोस्तों के साथ जरुर share करें.