SOS Full Form in Hindi – SOS Signal क्या होता है?

SOS Full Form in Hindi Kya Hai

SOS Full Form in Hindi क्या होती है, SOS Signal क्या होता है, SOS का इस्तेमाल कब और क्यों करते है, SOS Signal किसने बनाया था, SOS Signal कैसे दिया जाता है. अगर आप SOS से जुड़े हुए इन्ही सवालों का जबाब खोज रहे है तो ये Post आपके लिए ही है.

आज आपको में इस Post में SOS के बारे में जानकारी देने जा रहा हूँ. मैं आशा करता हूँ कि आप SOS के बारे में जो कुछ भी जानना चाहते है वो आपको इस Post में अवश्य मिल जाये. अगर आप SOS के बारे में अच्छे से समझना चाहते है तो इस Post को पूरा Read जरुर करे.

दोस्तो, आज हम इस Post में एक Signal के बारे मे बात करने जा रहे है। ये कोई Traffic Signal है जो गाड़ियो को रोकता हो। इस Signal की मदद से लोगों की जान भी बचाई जा सकती है जी हाँ आपने बिल्कुल सही पढ़ा इससे लोगो जान बचाई जा है।

ऐसे कई Symbols, Signal या Sign होते है जिन्हें देखा ही समझा जा सकता है कि सामने वाला क्या कहना चाहता है। चाहे सामने वाले की आवाज़ पहुंचे न पहुंचे अगर इन्हे देख लिए जाए तो मदद तुरंत पहुंचाई जा सकती है तो आइये जानते है कि SOS Full Form in Hindi क्या होती है और SOS Signal क्या होता है।

SOS Full Form in Hindi क्या है और SOS Signal क्या है?

SOS Stands for “Save Our Souls (सेव अवर सोल्स)”. SOS का हिन्दी मे मतलब “हमें बचाओं” होता है। इसे एक और मतलब Save Our Ship भी होता है। इसे Distress Code भी कहते है। यह संकट के वक़्त दिया जाने वाला Signal होता है।

SOS लिखने का औपचारिक तरीका शाब्दों के ऊपर Bar लगा कर लिखना होता है (जैसे- SOS) । SOS एक International Morse Code होता है। क्योंकि International Radio telegraphic Convention मे Morse Code का इस्तेमाल होता है।

इसलिए इस Distress Code को ऐसे बनाया गया जिससे की इसे भेजने मे आसानी हो इसमे पहले तीन Dots फिर तीन Dash और फिर से तीन Dots होते है। जहाँ शुरुआती और अंतिम तीन Dots “S” को और बीच के तीन Dash “O” को प्रदर्शित करते है (“…—…”)।

भूतकाल मे इसका उपयोग सबसे ज्यादा नाविकों द्वारा किया जाता था क्योंकि कोई भी व्यक्ति आसानी से वहाँ भटक जाता और उसे ढूँढना भी बहुत मुश्किल होता था। कईयों को तो ढूंढा ही नही जाता था। ऐसे में वह SOS Signal देकर बचाए जाते थे।

तब लोगों ने इसे अपने तरीके से नाम देने शुरू कर दिये जैसे- Save Our Souls, Save Our Ship या Send Out Succor। जिनमे से Save Our Souls के लिए अधिक मत है। अगर वास्तव मे देखा जाए तो SOS का कोई भी मतलब नही होता है।

SOS का प्रतिपादन

सबसे पहले इसे 1 April, 1905 में German Government द्वारा अपनाया गया और इसके तीन वर्ष पश्चात ये Distress Code के Standard के रूप में World Wide अपनाया गया। ये उन नाविको के लिए मददगार था जिनके खो जाने के बाद उन तक सहायता मुश्किल था।

SOS Signal कैसे भेजा जाए?

एक SOS Signal को भेजने के कई तरीके होते है जिनमें से कुछ तरीके मैं आपको बताने जा रहा हूँ। जिससे की आपको जब ही जरूरत हो आप भी उन Signals का Use करके अपने लिए मदद बुला सकते है।

Tapping के द्वारा

Tapping बात करने का एक ऐसा तरीका है जिससे आप बिना कुछ बोले या बिना कोई इशारा किए सामने वाले से बाते कर सकते है। बशर्ते उसे भी Tapping Language आनी चाहिए। जब आप खुद को एक ऐसे स्थान पर पाते है.

जहाँ आप फसे हुए हो या आप किसी को मदद के लिए नही बुला सकते (अपहरण, कही दबे होना, फसे होना आदि) उस वक़्त बिना किसी को पुकार या बिना किसी के खबर लगे आप अपने लिए मदद बुला सकते है।

Light के द्वारा

यह भी SOS Signal भेजने का एक अच्छा तरीका है। जब आप रात के अंधेरे मे कही फस जाए तो Light ही एक मात्र सहारा होती है। आप SOS Signal भेजने के लिए आग, Mobile की Light, Torch या Flash Light का इस्तेमाल कर सकते है।

Mirror के द्वारा

आप एक Mirror की Help से भी SOS Signal भेज सकते है। लेकिन उसके लिए Sun Light का होना बहुत जरूरी है। अब ये भी जरूरी नही है की आप एक Mirror का Use करे आप किसी भी Reflect होने वाली चीज़ का इस्तेमाल कर सकते है। जिससे सामने वाले को Signal पहुंचाया जा सकता है।

Smoke के द्वारा

Smoke के द्वारा भी SOS Signal भेजा जा सकता है। आप किसी भी Colored Smoke का इस्तेमाल कर सकते है। अगर Smoke का रंग Red हो तो और भी अच्छा होगा क्योंकि Red Color का प्रकीर्ण काफी कम होता है और ये दूर से ही दिख जाता है।

Hello दोस्तों, मैं आशा करता हूँ की आपको ये अपने SOS Full Form in Hindi – SOS Signal क्या होता है post पसंद आई होगीं अगर आपको इस post से related कोई सवाल या सुझाव है तो आप नीचें comment करें और इस post को अपने दोस्तों के साथ जरुर share करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *